मुद्रा लोन चाहिए तो ये जरुर पढ़ें. कितना और कैसे मिलेगा लोन.

क्या है मुद्रा लोन ?

आपको कोई उद्योग की शुरुवात करनी है? पैसो का कोई नियोजन नहीं है? पर आपको पता है की अगर आप कोई उद्योग जरुर कर सकते है तो आपको चिंता करने की कोई आवश्यकता नहीं है. क्योंकी आप प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के जरिए आवेदन करके 50 हजार रुपए से लेकर 10 लाख रुपए तक लोन ले सकते हैं और अपना खुद का बिजनेस शुरू कर सकते हैं. प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने देश के छोटे व्यवसायकों की सहायता के लिए दिल्‍ली में प्रधानमंत्री मुद्रा (माइक्रो यूनिट्स डेवलपमेंट एंड रिफाइनेंस एजेंसी, MUDRA) योजना की शुरुआत की थी. पीएम मोदी ने इस योजना को देश के विकास के लिए बेहद जरूरी बताया था.

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना का पूरा नाम माइक्रो यूनिट डेवलपमेंट रीफाइनेंस एजेंसी (Micro Units Development Refinance Agency) है. मुद्रा योजना की खास बात यह है कि इसके तहत लोन लेने वाले चार लोगों में से तीन महिलाएं हैं.

मुद्रा लोन

 

अर्थव्‍यवस्‍था में छोटे व्यवसायकों के योगदान पर जोर देते हुए प्रधानमंत्री ने भरोसा व्‍यक्‍त किया कि साल भर में बड़े बैंक भी मुद्रा मॉडल अपना लेंगे. इसके तहत लोगों को अपना कारोबार शुरू करने के लिए छोटी रकम का लोन दिया जाता है. यह योजना अप्रैल 2015 में शुरू हुई थी. इस योजना का मुख्य उद्देश्य छोटे और कुटीर उद्योगों को बढ़ावा देना है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस योजना की शुरुआत करते हुए कहा था कि, स्‍वरोजगार में जुटे 5 करोड़ 75 लाख लोगों पर ध्‍यान देने की जरूरत है, जो मात्र 17,000 रुपए प्रति इकाई कर्ज के साथ 11 लाख करोड़ की राशि का इस्‍तेमाल करते हैं और 12 करोड़ भारतीयों को रोजगार उपलब्‍ध कराते हैं. उन्‍होंने कहा कि इन तथ्‍यों के उजागर होने के बाद मुद्रा बैंक का विजन तैयार हुआ.

 

तिन तरह के मिलेंगे मुद्रा लोन.

  1. शिशु लोन –  50,000 रुपये तक का कर्ज दिया जाता हैं.
  2. किशोर लोन –  50,000 से 5 लाख रुपये तक का कर्ज दिया जाता हैं.
  3. तरुण लोन – 5 लाख से 10 लाख रुपये तक का कर्ज दिया जाता हैं

मुद्रा लोन

किस व्यवसाय के लिए ले सकते हैं मुद्रा लोन ?

शुरुआत में कुछ ही क्षेत्रों तक योजनाएं सीमित हैं, जैसे- जमीन परिवहन, सामुदायिक, सामाजिक एवं वैयक्तिक सेवाएं, खाद्य उत्पाद और टेक्सटाइल प्रोडक्ट सेक्टर. समय के साथ नई योजनाएं शुरू की जाएंगी, जिनमें और ज्यादा क्षेत्रों को शामिल किया जाएगा। इसमें स्‍वामित्‍व/साझेदारी फर्म लघु-निर्माण इकाइयों के रूप में कार्यरत, दुकानदार, फल/ सब्‍जी विक्रेता, हेयर क‍टिंग सैलून, ब्‍यूटी पार्लर, ट्रांसपोर्टर, ट्रक ऑपरेटर, हॉकर, सहकारिताएं या व्‍यक्तियों का निकाय, खाद्य सेवा इकाइयां, मरम्‍मत करने वाली दुकानें, मशीन ऑपरेटर, लघु उद्योग , दस्‍तकार, खाद्य प्रसंस्‍करण करने वाले, स्‍वयं सहायता समूह,10 लाख रुपए तक की वित्‍तीय जरूरत रखने वाले ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों के सेवा प्रदाता आदि तथा पेशेवर व्‍यवसायों/ उद्यमों/ इकाइयों में शामिल होंगे.

मुद्रा लोन

कैसे ले सकते है मुद्रा लोन?

मुद्रा योजना के तहत लोन के लिए आपको सरकारी या बैंक की शाखा में आवेदन देना होगा. अगर आप खुद का कारोबार शुरू करना चाहते हैं तो आपको मकान के मालिकाना हक़ या किराये के दस्तावेज, काम से जुड़ी जानकारी, आधार, पैन नंबर सहित कई अन्य दस्तावेज देने होंगे. बैंक का ब्रांच मैनेजर आपसे कामकाज से बारे में जानकारी लेता है. उस आधार पर आपको लोन मंजूर करता है. कामकाज की प्रकृति के हिसाब से बैंक मैनेजर आपसे एक प्रोजेक्ट रिपोर्ट बनवाने के लिए कह सकता है.

मुद्रा लोन

किसे मिलेगा मुद्रा लोन

मुद्रा बैंक ने कर्ज लेने वालों को तीन हिस्सों में बांटा है, इसमें व्यवसाय शुरू करने वाले, मध्यम स्थिति में कर्ज तलाशने वाले और विकास के अगले स्तर पर जाने की चाहत रखने वाले लोग शामिल हैं. इन तीन हिस्सों की जरूरतों को पूरा करने के लिए मुद्रा बैंक ने तीन कर्ज उपकरणों की शुरुआत की है- शिशुः इसके दायरे में 50 हजार रुपए तक के कर्ज आते हैं. किशोरः इसके दायरे में 50 हजार से 5 लाख रुपए तक के कर्ज आते हैं. तरुणः इसके दायरे में 5 से 10 लाख रुपए तक के कर्ज आते हैं.

मुद्रा लोन पर ब्याज दर

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत कोई निश्चित ब्याज दर नहीं हैं. विभिन्न बैंक मुद्रा लोन के लिए अलग ब्याज दर वसूल सकते हैं. लोन लेने वाले के कारोबार की प्रकृति और उससे जुड़े जोखिम के आधार पर भी ब्याज दर निर्भर करती है. आम तौर पर न्यूनतम ब्याज दर 12% है.

मुद्रा लोन

मुद्रा योजना का मकसद क्या है?

सरकार की सोच यह है कि आसानी से लोन मिलने पर बड़े पैमाने पर लोग स्वरोजगार के लिए प्रेरित होंगे. इससे बड़ी संख्या में रोजगार के मौके भी बनेंगे. मुद्रा योजना से पहले तक छोटे व्यवसाय के लिए बैंक से लोन लेने में काफी औपचारिकताएं पूरी करनी पड़ती थीं. लोन लेने के लिए गारंटी भी देनी पड़ती थी. इस वजह से कई लोग व्यवसाय तो शुरू करना चाहते थे, लेकिन बैंक से लोन लेने से कतराते थे.

केंद्र सरकार की मुद्रा योजना के दो उद्देश्य हैं. पहला, स्वरोजगार के लिए आसानी से लोन देना. दूसरा, छोटे व्यवसायों के जरिए रोजगार का सृजन करना. अगर आप भी अपना कारोबार शुरू करने के लिए पूंजी की समस्या का सामना कर रहे हैं तो केंद्र सरकार की इस पहल से आप अपने सपने को साकार कर सकते हैं.

मुद्रा लोन

मुद्रा योजना के लाभ क्या है ?

  1. मुद्रा स्कीम के तहत सामान्यत: बिना गारंटी (Without Guarantee) के Loan प्रदान किये जाते हैं.
  2. Loan प्रदान करने में किसी भी तरह की Processing Fees चार्ज नहीं की जाती हैं.
  3. इस लोन की पुनः भुगतान अवधि (Repayment Period) को 5 वर्ष तक बढाया जा सकता हैं.
  4. Working Capital Loan को Mudra Card के द्वारा प्रदान किया जा सकेगा.

क्या चाहिए योग्यता लोन लेने के लिए?

कोई भी भारतीय नागरिक या फर्म जो खेती को छोड़कर किसी भी अन्य व्यवसाय (Business) को शुरू करना चाहता हैं या फिर अपने वर्तमान व्यवसाय को आगे बढ़ाना चाहता हैं और उसकी वित्तीय आवश्यकता (Financial Needs) 10 लाख रूपये  तक हैं वह प्रधानमंत्री मुद्रा योजना (Mudra Loan Scheme) के तहत Loan के लिए आवेदन कर सकते हैं.

मुद्रा लोन

लोन लेने के लिए शुरुवाती प्रक्रिया.

मुद्रा योजना के तहत Loan के लिए Apply करने की कोई निश्चित प्रक्रिया नहीं हैं. Loan लेने के लिए आवेदक को सर्वप्रथम अपने आस-पास के बैंकों से संपर्क करके लोन की प्रक्रिया और Interest Rate सम्बन्धी पूरी जानकारी जुटा लेनी चाहिए. लोन प्राप्त करने के लिए आपको एप्लीकेशन फॉर्म भरना होता हैं और उसके साथ कुछ डाक्यूमेंट्स सबमिट करने होते हैं. Loan प्रदान करने के लिए बैंक सामान्यत: आपकी वित्तीय आवश्यकताओं के आधार पर दो तरह की जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं जिसमें वे विभिन्न तरह के डाक्यूमेंट्स की मांग कर सकते हैं:- जैसे की

  1. पिछले दो वर्षों की Balance Sheet, Income Tax Returns और आपके वर्तमान व्यवसाय की जानकारी जुटाकर यह जानने की कोशिश करते हैं कि क्या आप ब्याज सहित Loan वापस चुकाने की क्षमता रखते हैं या नहीं. बैंक यह जानने की कोशिश करते हैं कि आपके बिज़नेस में कितनी Risk हैं ताकि वे यह सुनिश्चित कर सकें कि उनके द्वारा दिया गया पैसा सुरक्षित रहेगा.
  2. बैंक आपके भावी Business Plan, Project Report, Future Income Estimates आदि के द्वारा यह जानने की कोशिश करते हैं कि बैंक द्वारा दिये गए Loan का उपयोग किस प्रकार के कार्यों में किया जाएगा और उस Loan के कारण Business का लाभ कितना और कैसे बढेगा.

क्या क्या डॉक्यूमेंट की जरुरत पड़ेगी?

  1. Identity Proof (पहचान प्रमाणपत्र) :- मतदान कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, पैन कार्ड, आधार कार्ड, पासपोर्ट
  2. Residence Proof (रहिवासी प्रमाणपत्र) :-  इलेक्ट्रिसिटी बिल, मतदान कार्ड, आधार कार्ड, पासपोर्\
  3. Proof of SC/ST/OBC/Minority.
  4. Identity/Address of the Business Enterprise Copy (बिजनेस एंटरप्राइज़ कॉपी की पहचान / पता) :-व्यावसायिक लाइसेंस के स्वामित्व, पहचान और पते से संबंधित प्रासंगिक लाइसेंस / पंजीकरण प्रमाण पत्र / अन्य दस्तावेजों की प्रतियां।
  5. आवेदक किसी भी बैंक/वित्तीय संस्थान में दिफोल्टर नहीं होना चाहिए
  6. Statement of accounts (खातो की स्टेटमेंट):- (पिछले छे महीने का), मौजूदा बैंक से यदि कोई है.
  7. Last two years balance sheets (पिछले दो साल की बैलेंस शिट) :- आयकर/कर रिटर्न आदि के साथ, (दो लाख रूपए और उससे अधिक के लिए लागू)
  8. Projected balance sheets (बैलेंस शिट) :- for one year in case of working capital limits and for the period of the loan in case of term loan (Applicable for all cases from Rs.2 Lacs and above).
  9. Sales achieved during the current financial year (मौजूदा वित्तीय वर्ष के दौरान हासिल की गई बिक्री) :- आवेदन जमा करने की तारिक तक
  10. Project report :- (for the proposed project) containing details of technical & economic viability.
  11. Partnership Deed (in case of partnership firm)etc
  12. Asset & Liability statement (In absence of third party guarantee,)from the borrower including Partners may be sought to know the net-worth.
  13. Photos (two copies) of Proprietor/ Partners

Mudra Loan के लिए आप Application Form सम्बंधित बैंक से प्राप्त कर सकते हैं या फिर आप ऑनलाइन बैंक की Website से Download कर सकते हैं.

मुद्रा लोन

क्यों नहीं मिलेगा मुद्रा लोन ?

अगर आवेदक के documents और दर्शाया गया उद्योग/व्यापार प्रोजेक्ट बैंक को सही नहीं लगता तो बैंक आवेदक की एप्लीकेशन को रिजेक्ट भी कर सकता हैं. अगर डाक्यूमेंट्स और एप्लीकेशन मे कोई छोटी मोटी गलती हो तो बैंक ही आवेदक को मार्गदर्शन दे कर उसे ठीक करवा कर LOAN की मंजूरी दे देता है.

कैसी होगी लोन की आंखरी प्रोसेस?

बैंक यह सुनिश्चित करती हैं कि Loan की राशी आपके बिज़नेस या उसी उद्देश्य के लिए ही खर्च हो, जिसके लिए लोन दिया गया हैं. इसके लिए वे कई कदम उठाते हैं, जैसे – अगर आवेदक ने अपने प्रोजेक्ट मे कोई बड़ी Machinery या Equipment खरीदनी है, तो भुगतान चेक के माध्यम से ही किया जाए. Proper Documents के साथ Application Form Submit करने के बाद बैंक आपके डाक्यूमेंट्स की जांच करेगी और पूरी तरह से संतुष्ट होने के लिए वे कुछ और डाक्यूमेंट्स की भी मांग कर सकते हैं. इस प्रक्रिया में कुछ दिनों का समय लग सकता हैं और Loan Processing की प्रक्रिया पूरी हो जाने के बाद आपको disbursement amount का check दे दिया जाएगा जो आवेदक के बैंक खाते मे जमा किया जाता है.

One thought on “मुद्रा लोन चाहिए तो ये जरुर पढ़ें. कितना और कैसे मिलेगा लोन.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *